अमित शाह ने पुण्य प्रसून को किया था फोन कहा- चुनाव क्यों नहीं लड़ लेते!





विकाश शुक्ला 

अब लग रहा है कि देश की मीडिया इन दिनों आईसीयू में है. बस महज़ उसकी सासें चल रही है. आज के दिनों में मीडिया सरकार के सामने नतमस्तक दिखाई दे रही है.एक समय था जब पत्रकारिता अंग्रेजों से बचकर करनी पड़ती थी। क्योंकि अंग्रेजों के खिलाफ कुछ भी लिखने पर पत्रकारिता बाध्य कर दी जाती थी।

पत्रकारों को जेल में डालकर उनको कई तरीकों से प्रताड़ित किया जाता था। लेकिन आज भी अगर देखा जाए तो शायद वही वक्त आज भी चल रहा है। क्योंकि मीडिया अब जितना सरकार के कामकाज पर ध्यान नहीं रखती है उतना सरकार मीडिया के कामकाज पर ध्यान रखने लगी है।

पहले पत्रकारों को अच्छा और इमानदारी से काम करने वाले को इनाम के साथ सम्मानित किया जाता है लेकिन अब उनको इनाम और सम्मान के बजाय उन्हें नौकरी से निकाला जा रहा है और उन्हें इमानदारी से पत्रकारिता करने की सजा भी दी जाती है कुछ दिन पहले एबीपी न्यूज़ चैनल ने 3 दिग्गज पत्रकारों को निकाला गया था जिसमे पत्रकार अभिसार शर्मा और पुण्य प्रसून वाजपेयी भी थे बस उन्होंने सरकार की सच्चाई दिखाई थी इसलिए सत्ता में बैठे लोगों को रास नहीं आया और इसलिए उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया.


अमित शाह ने पुण्य प्रसून को किया था फोन

काफी दिनों के बाद किसी प्रोग्राम में नौकरी से निकाले गए बर्खास्त पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपई का एक वीडियो सामने आया है. जो की सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रहा है, इस वीडियो में पुन्य प्रसून बाजपई कहते हैं कि काम करने के दौरान उन्हें भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का फोन आया था. पुण्य प्रसून जी बताते हैं कि अमित शाह उनसे कह रहे थे कि वह गलत खबर दिखा रहे हैं, शाह ने कहा की वाजपेयी जी आप राजनीति में क्यों नहीं आ जाते है चुनाव क्यों नहीं लड़ लेते है


वाजपेयी ने ये NDTV को लेकर कहा की NDTV सरकार से लड़ाई लड़ रहा है इसलिए रविश कुमार के प्रोग्राम में सिग्नल ब्रेक नहीं होता है लेकिन ABP News ने हमारा साथ नहीं दिया वरना हम सरकार की बैंड बजा देते

Comments